Monday, May 16, 2022
Homefull formsISRO का फुल फॉर्म क्या होता है?

ISRO का फुल फॉर्म क्या होता है?

इसरो ISRO एक शोध संगठन organization है, जो मंगलयान और चंद्रयान जैसे परीक्षणों में सफलता हासिल करता है और अंतरिक्ष में किए गए हर शोध के लिए हर संभव प्रयास करता है। इसरो मुख्य रूप से भारत सरकार के अंतरिक्ष विभाग और उसी अंतरिक्ष विभाग Department of Space के तहत काम करता है जो प्रधानमंत्री और अंतरिक्ष आयोग के अधिकारी के अधीन है। इसरो ISRO अंतरिक्ष विज्ञान और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी और देश के हित के लिए काम करता है। इसरो ISRO एक सफल वैज्ञानिक संगठन organization है, जो अंतरिक्ष में किए गए हर शोध को बड़ी ही आसानी से सफल बना देता है। इसमें वैज्ञानिकों को उच्च वेतन paid high salaries दिया जाता है। आज हम आपको इसरो ISRO की फुल फॉर्म के बारे में बताएंगे इसरो ISRO को हिंदी में क्या कहते हैं इसके बारे में बताएंगे तो चलिए आपको बताते हैं.

ISRO का फुल फॉर्म

ISRO का फुल फॉर्म है “Indian Space Research Organization, ISRO) इसे हिंदीमें “भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन” कहा जाता है। आज के टाइम में इसरो का नाम हर जगह लोकप्रिय है क्योंकि कोई भी अन्य वैज्ञानिक इसरो द्वारा की गई खोजों को सफलतापूर्वक नहीं कर सकता है। यह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक संस्थानों institutes में से एक है।

ISRO क्या है

ISRO भारत का राष्ट्रीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन national space research organization of India है, जो अंतरिक्ष में अनुसंधान के लिए कार्य करता है। इसरो की स्थापना 15 अगस्त 1969 को हुई थी, जबकि यह संगठन organization मौजूद था, लेकिन फिर 1962 में जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल में इस संगठन का नाम इसरो की जगह इंडियन नेशनल कमेटी फॉर स्पेस रिसर्च National Committee for Space Research (INCOSPAR) था. और इससे पहले यह था परमाणु ऊर्जा विभाग Department of Atomic Energy (DAE), इसके बाद जब वैज्ञानिकों और इसरो के पिता विक्रम साराभाई Vikram Sarabhai को इस शोध संगठन की आवश्यकता समझ में आई, तो उन्होंने 1969 में इस संगठन का नाम बदलकर ISRO कर दिया और इसके साथ ही एक अलग विभाग बनाया गया। , जिसे DOS नाम दिया गया, जिसका हिंदी में मतलब होता है अंतरिक्ष विभाग, यह एक ऐसा विभाग है, जो इसरो ISRO की हर छोटी-बड़ी रिपोर्ट को भारत के प्रधानमंत्री तक पहुंचाने का काम करता है।

इसरों ISRO का मुख्यालय

इसरो का मुख्यालय कर्नाटक राज्य की राजधानी बैंगलोर में स्थित है।

ISRO की उपलब्धियां

मार्स ऑर्बिटर मिशन – मार्स ऑर्बिटर Mars Orbiter को 2014 में मंगल ग्रह पर भेजा गया था। भारत अपने पहले प्रयास में मंगल पर पहुंचने वाला पहला देश बन गया। अभी तक केवल 4 अंतरिक्ष संगठन organizations ही मंगल पर पहुंचे हैं और भारत उनमें से एक है। मार्स ऑर्बिटर मिशन Mars Orbiter Mission का बजट 450 करोड़ था, जो मंगल Mars पर पहुंचने वाला अब तक का सबसे कम बजट है।

Read More: DVD ka Full Form Kya Hota Hai

चंद्रयान 1 – चंद्रयान 22 अक्टूबर 2008 को लॉन्च किया गया था, जो भारत के लिए एक बड़ी उपलब्धि थी। यह चंद्रमा पर भारत का पहला विशेष कार्य था। इस विशेष कार्य का उद्देश्य चंद्रमा पर स्थलाकृति topography और रासायनिक chemical विशेषताओं का पता लगाना था। कुछ समय बाद इसरो ISRO का चंद्रमा से संपर्क टूट गया।

ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान – इसरो ISRO ने 15 फरवरी, 2017 को इतिहास रच दिया इसरो ISRO ने एक साथ 104 उपग्रहों को अंतरिक्ष में प्रक्षेपित simultaneously किया। इसरो ने एक साथ अंतरिक्ष में 104 उपग्रह प्रक्षेपित simultaneously कर विश्व रिकॉर्ड बनाया है।

ISRO की कमाई

इसरो ISRO कमाई के मामले में सबसे आगे है, क्योंकि यह न सिर्फ भारत में सैटेलाइट लॉन्च करता है, बल्कि विदेशी सैटेलाइट foreign satellites भी लॉन्च करता है, जिससे इसरो ISRO जून 2016 तक दुनिया के 20 अलग-अलग देशों में खूब कमाई करता है। 57 उपग्रहों को प्रक्षेपित करने का कार्य किया है, जिसके बाद इसरो ISRO ने 10 करोड़ अमेरिकी डॉलर की कमाई की है।

ISRO के कुछ ऐतिहासिक रिकॉर्ड्स

  1. भारत में इसरो ISRO द्वारा मंगल पर अपने पहले ही प्रयास में सफलता हासिल करने वाला पहला देश बन गया है।
  2. एशिया की पहली अंतरिक्ष एजेंसी को मंगल की कक्षा में पहुंचने के लिए कहा गया है।
  3. बाद में इसरो ने 18 जून 2016 को एक ही वाहन में 20 उपग्रहों को लॉन्च किया और 15 फरवरी 2017 को एक ही रॉकेट PSLV C37 में 104 उपग्रहों को लॉन्च करके विश्व रिकॉर्ड बनाया।
  4. वर्तमान में बृहस्पति और शुक्र पर अंतरिक्ष यान भेजने की अवधारणात्मक perceptual अध्ययन करने की प्रक्रिया जारी है।
  5. वर्ष 2014 में शांति, निरस्त्रीकरण और विकास Peace, Disarmament and Development के लिए इंदिरा गांधी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

Read More: MCA ka Full Form Kya Hota Hai

ISRO की महत्वपूर्ण जानकारी

  • इसरो ISRO की एक खास बात यह भी है कि इसमें ज्यादातर वैज्ञानिक scientists काम करते हैं जिन्होंने शादी नहीं की।
  • इसरो ISRO की वजह से हमारा देश भी उन 6 देशों में शामिल हो गया है जो अपना सैटेलाइट satellite भेज सकते हैं।
  • इसरो की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि अब तक कोई भी देश ऐसा नहीं कर पाया है, यानी एक बार में मंगल पर पहुंच गया है।
  • पहला उपग्रह इसरो द्वारा 19 अप्रैल 1975 को लॉन्च किया गया था और इसका नाम आर्यभट्ट Aryabhata रखा गया था।

इसरों के कितने केंद्र (Centers) है

देश भर में इसरो के छह प्रमुख केंद्र और कई अन्य इकाइयां, एजेंसियां, सुविधाएं और प्रयोगशालाएं units, agencies, facilities and laboratories स्थापित हैं। ये केंद्र हैं: विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (VSSC) तिरुवनंतपुरम, इसरो उपग्रह केंद्र (ISAC) बैंगलोर, सतीशधवन अंतरिक्ष केंद्र (SDSC-SHAR) श्रीहरिकोटा, तरल प्रणोदन प्रणाली केंद्र (LPSC), तिरुवनंतपुरम, बैंगलोर और महेंद्रगिरि, अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र (SAC) ), अहमदाबाद और नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर (NRSC), हैदराबाद।

इन केंद्रों के प्रमुख कार्य

  1. प्रक्षेपण यान का निर्माण VSSC, तिरुवनंतपुरम में किया जाता है।
  2. उपग्रह आइजैक, बैंगलोर में डिजाइन और विकसित किए गए हैं।
  3. एसडीएससी, श्रीहरिकोटा में उपग्रहों और प्रक्षेपण वाहनों का एकीकरण और प्रक्षेपण किया जाता है। एलपीएससी LPSC में क्रायोथर्मल चरण सहित तरल चरण विकसित किए गए हैं।
  4. संचार और सुदूर संवेदन उपग्रहों के लिए सेंसर और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के उपयोग से संबंधित कार्य सैक, अहमदाबाद में किया जाता है।
  5. रिमोट सेंसिंग डेटा अधिग्रहण, प्रसंस्करण और वितरण processing and distribution NRSC, हैदराबाद द्वारा किया जाता है।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments