Home full forms CDN का फुल फॉर्म क्या होता है ?

CDN का फुल फॉर्म क्या होता है ?

0

आज हम बात करेंगे CDN क्या होता है,I CDN का फुल फॉर्म क्या होता है,CDN को हिंदी में क्या कहते हैं ,इसके बारे में हम आपको संपूर्ण जानकारी देंगे।

CDN का फुल फॉर्म?

1) CDN फुल फार्म का Content Delivery Network होता है.हिंदी में सामग्री वितरण नेटवर्क होता है.

2) कंटेंट डिलीवरी नेटवर्क यानी सीडीएन यूजर्स को तेज अनुभव प्रदान करता है और वेबसाइट के ट्रैफिक को बढ़ाने में भी काफी मदद करता है। और साथ ही यह google search करने में भी बहुत मदद करता है।

3) अगर आपने अपने सर्वर पर सीडीएन को इनेबल कर रखा है तो आपकी साइट जल्दी खुल जाएगी जिससे आपके ब्लॉग या वेबसाइट पर ज्यादा लोग आएंगे और आपकी साइट जल्द ही गूगल में रैंक हो जाएगी। इसलिए CDN एक Blog या Website के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण और मददगार होता है और इससे आपको आपकी कमाई में भी काफी फायदा होगा।

4) अधिकांश नए ब्लॉगर होस्टिंग खरीदना चाहते हैं, तो केवल Bluehost या Hostgator की साझा होस्टिंग खरीदें, फिर इसमें वे आपको एसएसएल प्रमाणपत्र, असीमित वेबसाइट, बैंडविड्थ जैसी मुफ्त सेवा प्रदान करते हैं।

5) शेयर्ड होस्टिंग में ज्यादा वेबसाइट होने के कारण साइट को ओपन होने में काफी समय लगता है इसलिए अगर आप अपनी वेबसाइट में सीडीएन का इस्तेमाल करते हैं तो आपकी वेबसाइट जल्दी ही ओपन हो जाएगी और यह अच्छे विजिटर्स भी ला सकती है। दोस्तों आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट के लिए फ्री या पेड सीडीएन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

Read More: M Tech ka Full Form Kya Hota Hai

सीडीएन कैसे काम करता है

सीडीएन का मुख्य काम वेबसाइट या ब्लॉग की स्पीड को बढ़ाना है। यदि आपके पास होस्टिंग पर कोई ब्लॉग या वेबसाइट है, तो सीडीएन आपकी साइट की लोडिंग गति को बढ़ाने में बहुत मदद करता है। दोस्तों सीडीएन सर्वरों का एक नेटवर्क है जो सामग्री को तेजी से और सुरक्षित रूप से वितरित करने का काम करता है।

जब भी कोई वेबसाइट या ब्लॉग खुलने के तुरंत बाद नहीं खुलता है तो ऐसे समय में सीडीएन काम करता है लेकिन इसके लिए आपकी वेबसाइट में सीडीएन सक्षम होना चाहिए। साइट की लोडिंग स्पीड को बेहतर करने के लिए सीडीएन बहुत जरूरी है।

कंटेंट डिलीवरी नेटवर्क यानि सीडीएन का एक और महत्वपूर्ण कार्य यह है कि जैसे ही आपकी साइट तेजी से लोड होती है, यह जल्द ही गूगल रैंकिंग में आ जाएगी यानी गूगल के पहले पेज पर, इसका मतलब है कि सीडीएन का उपयोग करने से वेबसाइट को गूगल सर्च रैंकिंग मिल जाएगी। . इससे भी काफी मदद मिलेगी।

Read More: NADA ka Full Form Kya Hota Hai

सीडीएन का उपयोग करने के क्या लाभ हैं?

सीडीएन के फायदे – अगर आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट में सीडीएन यानी कंटेंट डिलीवरी नेटवर्क का इस्तेमाल करते हैं तो आपकी वेबसाइट बहुत जल्द गूगल में रैंक करेगी और आपको इससे कई फायदे मिलेंगे। तो आइए जानते हैं, ब्लॉग या वेबसाइट में सीडीएन का इस्तेमाल करने के क्या-क्या फायदे हैं।

1) High traffic को handle करना

2) Google search ranking में मदद

3) Loading Speed को बढ़ाता है

4) Bounce Rate को कम करता है

5) Improving Website Security

6) Bandwidth Cost को कम करता है

1) Handling High Traffic

सीडीएन का उपयोग करके आप अधिक ट्रैफिक को नियंत्रित कर सकते हैं क्योंकि सीडीएन सर्वर अलग-अलग जगहों पर मौजूद होते हैं और इस वजह से जहां से लोग सर्च करते हैं, उन्हें अपने आसपास सीडीएन सर्वर के जरिए डेटा मुहैया कराया जाता है। और इसी वजह से आपकी वेबसाइट पर एक ही समय में ज्यादा लोग आते हैं, इसलिए वेबसाइट के लिए सीडीएन का इनेबल होना बहुत जरूरी है।

Read More: MAT ka Full Form Kya Hota Hai

2) Help with Google Search Ranking

Google उसी वेबसाइट को बहुत जल्द SERP – सर्च इंजन रिजल्ट पेज यानि गूगल फर्स्ट पेज में रैंक करता है, जिस साइट की लोडिंग स्पीड तेज होती है और साइट या ब्लॉग जल्दी खुल जाता है।

यदि आपकी साइट जल्दी नहीं खुलती है, तो विज़िटर किसी अन्य साइट पर जाते हैं और इस कारण आपकी वेबसाइट खोज में नहीं आती है और जल्दी रैंक नहीं कर पाती है, इसलिए वेबसाइट या ब्लॉग में सीडीएन का उपयोग करना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि वेबसाइट में सीडीएन का उपयोग करना बहुत जल्द साइट को रैंक करेगा।

3) Increases Loading Speed

वेबसाइट लोड टाइम में सुधार करें – दोस्तों अगर आपकी वेबसाइट यूजर्स के सर्वर पर जल्दी नहीं खुलती है तो ऐसे समय में यूजर्स किसी और की साइट पर विजिट करने लगते हैं, ऐसे में आपकी वेबसाइट पर ज्यादा विजिटर्स नहीं आते हैं।

अगर आपको लगता है कि आपकी साइट जल्दी ओपन होनी चाहिए और साइट पर ज्यादा से ज्यादा लोग आएं तो दोस्तों आपको अपनी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड बढ़ाने के लिए सीडीएन का इस्तेमाल करने की जरूरत है, इससे आपकी साइट तेजी से खुलेगी और साइट पर विजिटर आएंगे। भी आ जाएगा।

CDN का उपयोग करने से वेबसाइट या ब्लॉग की लोडिंग गति को सुधारने और साइट को तेजी से खोलने में बहुत मदद मिलती है। और आगंतुकों को साइट के खुलने तक इंतजार भी नहीं करना पड़ता है और इससे आपकी साइट पर अधिक ट्रैफिक भी आ सकता है।

Read More: MAN ka Full Form Kya Hota Hai

4) Lowers the Bounce Rate

अगर किसी यूजर ने आपकी वेबसाइट खोली है और आपकी साइट बहुत धीमी गति से खुल रही है तो ऐसे में यूजर आपकी साइट को ओपन करके छोड़ देता है जिससे आपके ब्लॉग या वेबसाइट का बाउंस रेट बढ़ जाता है।

तो अगर आप अपनी वेबसाइट के बाउंस रेट को कम करना चाहते हैं तो आपको वेबसाइट के लिए सीडीएन का इस्तेमाल करना चाहिए इससे आपकी साइट की स्पीड बढ़ेगी और साइट पर ज्यादा ट्रैफिक भी आने लगेगा। इस तरह सीडीएन आपकी वेबसाइट के बाउंस रेट को कम करने में काफी मदद करता है।

5) Improve Website Security

अगर आपकी वेबसाइट या ब्लॉग में सीडीएन सक्षम है तो यह आपकी वेबसाइट की सुरक्षा में सुधार कर सकता है। इसलिए साइट सुरक्षा के लिए सीडीएन बहुत फायदेमंद है।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Read More: NCVT ka Full Form Kya Hota Hai

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version